वैज्ञानिकों ने पहली बार सौर मंडल से दूर एक ग्रह के वायुमंडल में जलवाष्प की पुष्टि की है

0
74
scientist onfirmed-the-presence-of-water-vapor-in-atmosphere-of-an-exoplanet-k2-18b-super earth par pani ki khoj-वैज्ञानिकों ने पहली बार सौर मंडल से दूर एक ग्रह के वायुमंडल में जलवाष्प की पुष्टि की है-IndiNews
Artist’s impression shows the planet K2-18b, its host star | Image Credit: ESA/Hubble, M. Kornmesser

क्या हम इस विशाल ब्रह्मांड में अकेले हैं? क्या पृथ्वी अद्वितीय है? क्या पृथ्वी एक मात्र गृह है जहाँ जीवन संभव है? जीवन, पृथ्वी, और सौरमंडल से जुड़े न जाने ऐसे कितने सवाल है जो आज भी उचित जवाब के इंतज़ार में है. वैज्ञानिक और खगोलशास्त्री हमेशा से ऐसे ही कई सवालों के खोज में ब्रह्मांड से जुडी जानकारियां जुटाने के प्रयास कर रहे हैं. पृथ्वी, हमारे सौर मंडल और ब्रह्मांड पर जीवन के बारे में अनगिनत अन्य प्रश्नों के जवाब ढूंढने के प्रयासों में हबल स्पेस टेलीस्कोप ने अहम् योगदान दिया है.

हबल स्पेस टेलीस्कोप का नाम खगोलविद एडविन हबल के नाम पर रखा गया हो सकता है कि यह पहला स्पेस टेलीस्कोप न हो लेकिन यह अब तक का सबसे बड़ा और बहुमुखी स्पेस टेलीस्कोप है. यह हबल टेलीस्कोप है जिसने खगोलविदों को ब्रह्मांड के विस्तार की दर का पता लगाने में मदद की.

साल 2015 में अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा के केप्लर स्पेस टेलीस्कोप ने एक सूपर अर्थ के श्रेणी में आने वाले ग्रह का पता लगाया था, जो पृथ्वी की तुलना में लगभग दो गुणा से अधिक है और पृथ्वी की तुलना में आठ गुणा वजनी भी है. हबल स्पेस टेलीस्कोप से मिली जानकारियों के अध्ययन ने अब इस बात की पुष्टि कर दी है की इस ग्रह के वायुमंडल में जलवाष्प मौजूद है.

जीवन के लिए पानी सबसे आवश्यक पदार्थ है यही कारण है K2-18b वायुमंडल में जलवाष्प मौजूदगी विज्ञान के लिए बेहद महत्वपूर्ण है, K2-18b जैसे ग्रहों के अध्ययन से ही जीवन से जुड़े सवालों का जवाब मिल सकता है. K2-18b पर अध्ययन करने वाले वैज्ञानिकों ने यहाँ पृथ्वी के तरह ही वहाँ बारिश होने कि संभावनाएँ भी ज़ाहिर कर रहे हैं. हबल स्पेस टेलीस्कोप ने इसकी पुष्टि में एक बड़ा योगदान दिया है.

scientist onfirmed-the-presence-of-water-vapor-in-atmosphere-of-an-exoplanet-k2-18b-super earth par pani ki khoj-IndiNews
Hubble Space Telescope in Earth’s Orbit | Image Credit: NASA

यह K2-18b नामक एक्सोप्लैनेट एक छोटा तारा जिसे red dwarf star कहा जाता है के habitable zone के कक्षाओं में स्थापित है. K2-18b जिस तारा का चक्कर लगा रहा है वो सूरज की तुलना में बहुत छोटा और ठंडा है. सौर मंडल में रहने योग्य क्षेत्र याhabitable zone मूल रूप से कक्षीय दूरी की सीमा है जहां यह तरल पानी के लिए पर्याप्त तापमान हो.

इस तारे का सूरज की तुलना में ठंधा और छोटा होने के कारण इसका habitable zone भी सूरज की तुलन में नज़दीक है इसीलिए K2-18b पृथ्वी के मुक़ाबले अपने स्टार के 7 गुणा कम दूरी पर परिक्रमा करता है और इसके बावजूद यहाँ के वायुमंडल में जलवाष्प की मौजूदगी है.

वायुमंडल में जलवाष्प वाले ग्रह K2-18b से जुड़ी ख़ास जानकरियाँ:

  • यह पृथ्वी से 110 प्रकाश वर्ष की दूरी पर है.
  • यह पृथ्वी से 2 गुणा से भी अधिक बड़ा है.
  • यह पृथ्वी के मुक़ाबले 8 गुणा अधिक वजनी है, इसलिए गुरुत्वाकर्षण बल पृथ्वी के मुक़ाबले बहुत अधिक है.
  • यह अपने तारे से पृथ्वी के मुक़ाबले 7 गुणा अधिक समीप है
  • यहाँ सिर्फ़ 33 पृथ्वी दिनों का एक वर्ष होता है क्योंकि K2-18b 33 पृथ्वी दिनों (Earth Days) में अपनी परिक्रमा पूरी कर लेता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here