पुलवामा हमले और उसके बाद भारत की रणनीति

0
1181

पुलवामा हमले में 46 जवानो को कल दिल्ली के पालम एअरपोर्ट पर पुरे देश की तरफ से गार्ड ऑफ़ ऑनर दिया गया. इस दौरान सभी गमगिन और कुछ करने को संकल्पित दिखे. क्या अलग अलग राजनैतिक दल क्या पक्ष और विपक्ष बस दिख रहा था तो एक हिंदुस्तान. करीब 20 मिनट के कार्यक्रम के दौरान सैना प्रमुख और राहुल गाँधी गंभीर वार्ता करते दिखे और केजरीवाल, सीतारमण जी के साथ. इस बार हमारे राजनेताओं ने जो परिपक्वता दिखाया एक बार फिर भारत के लोकताँत्रिक व्यवस्था में भरोसा जग गया है. सभी लोग जिस एकजुटता से साथ खड़े हैं वह दुश्मन को चिंतित करने के लिए काफी है.

गृहमंत्री खुद शहीदों को कंधा देते दिखे.

क्या है आगे की सम्भावनाये?
प्रधानमंत्री ने बहुत ही कड़े और साफ शब्दों मे कहा है दुश्मन गलती कर चुका है और उसे परिणाम भुगतना होगा.

भारत ने वैश्विक स्तर पर समर्थन जुटाना भी हमले के तत्काल बाद ही शुरू कर दिया था. सभी G20 देशों को पूरी जानकारी दी गयी और भारत के रुख से अवगत करा दिया गया है. यह वैसा ही है जैसा की 1971 मे सभी देशों को पहले ही बता दिया गया था.
भारत की रणनीति कामयाब होती भी दिख रही है,सभी प्रमुख देश ने भारत को समर्थन भी दिया है.

रूस:

जर्मनी:

इज़राइल:

USA: