स्मृति ईरानी ने अमेठी में दिखाई दिदिगिरी, काफिला रोक एंबुलेंस से बीमार युवती को भेजा अस्पताल

0
113

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी शनिवार को दो दिवसीय दौरे पर अमेठी पहुंची थीं। दौरे के पहले दिन बरौलिया से उनका काफिला तिलोई की ओर जा रहा था। अचानक कूरा गांव के पास एक युवती ट्राई साइकिल पर बैठी दिखी।

परिवार के लोग भी उसके संग मौजूद थे। स्मृति ने युवती को देखते ही अपने वाहन को रुकवा दिया। स्मृति ने वाहन से उतरकर परिवार के लोगों से बात की तो पता चला कि युवती कूरा गांव के भीम नारायण की पुत्री आरती है।

आरती का कुछ समय पूर्व एक्सीडेंट हो गया था और अब वह अपने पैरों पर चलने से लाचार है। परिवारीजन उसे अस्पताल ले जाने के लिए निकले हैं। इतना सुनते ही स्मृति ने अपने काफिले में शामिल सरकारी एंबुलेंस से युवती को जिला अस्पताल भेजवाया। इतना ही नहीं स्मृति ने परिवारीजनों से कहा कि कोई भी दिक्कत आए तो वे शाम को गौरीगंज में उनसे मिल सकते हैं।

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर तंज कसते हुए कहा कि अमेठी में एक समय ऐसा था जब सांसद पांच साल बाद नजर आते थे। जनता को मिलने के लिए उनसे दिल्ली जाना पड़ता था। सांसद बोलीं कि गौरीगंज में जमीन चिह्नित कर ली गई है और अपना घर मैं यहीं बनवाऊंगी, ताकि अमेठी की जनता को समस्या बताने के लिए भागदौड़ न करनी पड़े। वे शनिवार को राजा विश्वनाथ इंटर कॉलेज तिलोई में शिलान्यास समारोह के दौरान बोल रहीं थी।

उन्होंने कहा कि अमेठी में अब तक नामदारों का ही बोलबाला था, जो पैसे के बल पर चुनाव जीतते थे। लेकिन यहां की जनता ने इस बार नामदारों नहीं बल्कि कामगारों को चुना है। उन्होंने कहा कि मेरे लिए यह गौरव की बात है कि मैं यहां की जनता की दीदी हूं और एक सांसद नहीं बहन के नाते आप सबकी सेवा करूंगी।

स्मृति ईरानी कुछ दिनों पहले मारे गये भाजपा कार्यकर्त्ता सुरेन्द्र सिंह के परिवार वालों से मिलकर उनका हल पूछी और सहयोग का भरोसा दी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here