गाय ऑक्सीजन छोड़ने वाला एकमात्र पशु है, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने दिया रोगनाशक गौ-ज्ञान

0
309
uttarakhand-chief-minister-trivendra-singh-rawat-claims-cows-exhale-inhale-oxygen-bjps-superstitious-obsession

क्या आप किसी ऐसे किसी व्यक्ति को जानते हैं जिन्हें सांस संबंधी कोई समस्या हो? या टीबी (क्षयरोग) से ग्रसित हो, या त्वचा, हृदय और किडनी संबंधित कोई परेशानी हो? अगर इनमे से किसी भी सवाल का जवाब हाँ है तो बता दें के ऐसे लोगों को डॉक्टर के पास भटकने और पैसे खर्च करने की जरुरत नहीं है. उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के खास गौ ज्ञान के अनुसार इन सभी बीमारियों का एक इलाज है गाय. जी हाँ भारतीय जनता पार्टी के नेताओं का लबालब गौ-ज्ञान पर बस ध्यान दें तो इन बिमारियों के साथ साथ कई अन्य बीमारियों का इलाज भी गाय है.

भाजपा नेताओं के आधुनिक गौ ज्ञान वाले बयानों पर नजर रखना चाहिए, पता नहीं कौन कब क्या ज्ञान देकर देश का भला कर दे. लोकसभा चुनाव के समय भोपाल से भाजपा के प्रत्याशी और मालेगाँव बम धमके की आरोपी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने अपने इंटरव्यू के माध्यम से देश को कैंसर और ब्लड प्रेशर से इजात पाने का गौ ज्ञान दिया था, ऐसे और भी ज्ञान सभी तरफ बंट रहे हैं लेकिन कुछ आम जनता तक पहुँच रहा कुछ नहीं, इसलिए ध्यान रखना जरुरी है.

हाल में हीं उत्तराखंड भाजपा अध्यक्ष अजय भट्ट ने लोकसभा में बिल पर चर्चा करते हुए कहा कि गर्भवती महिलाएं महिला अगर गरुड़ गंगा के पत्थर को रगड़ कर एक कप पानी के साथ पी लें, तो उसकी सामान्य डिलीवरी संभव है. अब राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी अपना अनमोल और प्राचीन गौ-ज्ञान साझा किया है, मुख्यमंत्री के अनुसार गाय ऑक्सीजन छोड़ने वाला एकमात्र पशु है. गाय की मालिश करके सांस संबंधी समस्या का उपचार किया जा सकता है. वायरल हुए एक वीडियो में मुख्यमंत्री रावत एक समारोह में गाय के रोगनाशक गुणों के बारे में बताते दिखाई दे रहे हैं. वीडियो में रावत कह रहे हैं, “गाय एकमात्र ऐसा पशु है जो ऑक्सीजन लेता और छोड़ता है, इसलिये हमने गाय को माता का दर्जा दिया है”

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत विडियो में आगे कहते दिख रहे हैं कि गाय की मालिश करने से सांस की तकलीफ दूर हो जाती है और गाय के संपर्क में लगातार रहने से टीबी जैसी बीमारी ठीक हो जाती है. वीडियो में मुख्यमंत्री गाय के गोबर और गौमूत्र के औषधीय गुणों के बारे में भी बता रहे हैं. उन्होंने कहा कि पशुपालन मंत्री रहते हुए उन्होंने इसके बारे में वैज्ञानिक अध्ययन भी कराया था. रावत वीडियो में कहते दिख रहे हैं, “गाय के गोबर और गौमूत्र में कितनी ताकत है और हमारे शरीर, त्वचा, हृदय और किडनी के लिये यह कितना फायदेमंद है, वैज्ञानिक आज इसे प्रमाणित कर रहे हैं.”

यही होता है जब लोग WhatsApp यूनिवर्सिटी को ज्ञान का एक मात्र साधन बना लेते हैं. आप बड़ी आसानी से अनुमान लगा सकते हैं राज्य में स्वस्थ्य और शिक्षा वेवस्था का जब राज्य के मुख्यमंत्री और राज्य के पार्टी अध्यक्ष खुद लोगों में अन्धविश्वास का खुलके प्रचार प्रसार कर रहे हैं. ऐसे परम ज्ञानी नेताओं का वश चले तो AIIMS और अन्य सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों के बदले हर वार्ड में गायों को खूंटे से बाँध दे. जहाँ एक तरफ दुनिया चाँद और मंगल पर कॉलोनी बसाने की तैयारी में है वहीँ हमारे देश में मुख्यमंत्री जैसे बड़े पदों पर बैठे लोग जानवरों और ज्योतिष शास्त्र का अन्धविश्वास फैला रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here