BJP सांसद की गुंडागर्दी, काफिला रोकने पर टोलकर्मी को पीटा, सुरक्षाकर्मी ने चलाई गोलियाँ

1
131
bjp-sansad-ki-gundagardi-toll-plaza-par-chali-goliyan

इटावा से सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी (BJP) के सांसद और अनुसूचित जाति आयोग के चेयरमैन राम शंकर कठेरिया और उनके सुरक्षाकर्मी ने आगरा के एक टोल प्लाजा पर गुंडागर्दी करते CCTV में कैद हो गाए. यह घटना शनिवार सुबह आगरा इनर रिंग रोड स्थित एतमादपुर टोल प्लाजा की है. सुबह के 3.45 बजे इटावा से BJP के सांसद डॉ. राम शंकर कठेरिया दिल्ली से आगरा अपने काफिले के साथ जा रहे थे, काफिले में पांच छोटी गाड़ी और एक बस थी.

टोलकर्मी ने गड़ियों को एक-एक कर निकालने के लिए कहा और इसे लेकर विवाद हो गया, विवाद ऐसा की सांसद जी के चेले चपाटे ने हवा में गोलियाँ भी चला दी और वहाँ मौजूद टोलकर्मी को जमकर धुन दिया. यह सारा मामला टोल प्लाजा के सीसीटीवी में कैद हो गया. सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में कठेरिया टोलकर्मी को थप्‍पड़ मारते हुए दिख रहे हैं. पुलिस ने धारा 147, 148, 336, 323, 506, व 30 आर्म्स एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है.

एसएसपी बबलू कुमार ने अनुसार टोलकर्मियों की शिकायत के आधार पर BJP सांसद रामशंकर कठेरिया के खिलफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. टोलकर्मियों का मेडिकल कराया जा रहा है. साथ ही जो वीडियो उनके द्वारा उपलब्ध कराया गया है उसकी समीक्षा की जा रही है. एसएसपी बबलू कुमार ने आगे वही कहा जो नेता से जुड़े ऐसे सभी मामलों में कहा तो जाता है लेकिन किया नहीं जाता, एसएसपी ने कहा जो भी लोग इसमें शामिल हैं उन सभी के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी.

उधर, सांसद रामशंकर कठेरिया की ओर से जारी बयान में काफिले पर हमला होने की बात कही गई है. सांसद प्रवक्ता शरद चौहान ने बताया कि टोल पर आठ-दस अराजक तत्वों ने उनके काफिले पर हमला बोल दिया. सांसद जैसे ही गाड़ी से उतरे तो हमलावर उनकी तरफ आने लगे. सांसद की जान बचाने के लिए सुरक्षाकर्मी को हवाई फायरिंग करनी पड़ी.

बीजेपी सांसद अपने बचाव में चाहे जो भी कहे लेकिन सीसीटीवी फ़ुटेज देख कर ऐसा बिल्कुल नहीं लग रहा की उनके काफिले पर किसी ने हमला किया हो और कौन हिम्मत करे ऐसे सांसद से भिड़ने का जिसकी पार्टी राज्य और केंद्र दोनो जगह सरकार में हो और जो खुद हर जगह काफिले के साथ चलते हों.

टोल के शिफ्ट इंचार्ज अनुपम सिंह ने पुलिस को बताया कि काफिले की गाड़ियां जिस लाइन में थीं उसमें बूम बैरियर लगा है, जो एक गाड़ी के गुजरने के बाद स्वत: नीचे गिर जाता है. इस कारण सभी गड़ियों को एक साथ निकाल पाना सम्भव नहीं था. सभी गाड़ियां एक साथ नहीं निकालने पर ही विवाद हुआ.

भाजपा सांसद कठेरिया के सुरक्षा कर्मियों ने इंचार्ज को पकड़ लिया. गाड़ी सड़क पर खड़ी करके टोल कर्मियों को पीटने लगे. टोलकर्मियों को सांसद के सुरक्षा कर्मियों ने डंडों से पीटा. दो गोलियां भी चलाईं. सांसद कठेरिया ने भी टोल कर्मी को थप्पड़ मारा. नेताजी के काफिले में शामिल एक युवक टोल कर्मी को लात मारते कैमरे में भी कैद है. फायरिंग करने वाला भी कैमरे में कैद है. पीड़ित टोल कर्मी ने मीडिया को बताया की सांसद ख़ुद पेट में और सर में गोली मरने के लिए बोल रहे थे, टोल कर्मी ने सांसद को उनके हीं क्षेत्र के होने की बात कही लेकिन फिर भी गुंडागर्दी नहीं रुकी.

बीजेपी नेताओं और समर्थकों के गुंडागर्दी की घटनाएँ अब आम हो गयी है, ये सरकार और सत्ता में होने का नशा है जिसके सामने BJP के नेताओं को कुछ नहीं सुझ रहा. ये भुल रहे हैं की ये उन्ही लोगों को कूट रहे जिनके पैरों में गिरकर वोट माँगने हर चुनाव के पहले ये और इनके जैसे कई नेता आते हैं.

अभी कुछ दिनों पहले की ही घटना है, देश ने देखा किस तरह से मध्य प्रदेश के इंदौर में भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे आकाश विजयवर्गीय ने इंदौर में नगर निगम कर्मियों क्रिकेट के बल्ले से भगा भगा कर पिटा. जिसके बद उसे गिरफ़्तार भी किया गया, हलांकि गिरफ़्तारी के तीन दिन बद आकाश विजयवर्गीय को ज़मानत पर रिहा कर दिया गया. ज़मानत पर रिहा होने के बाद आकाश विजयवर्गीय के गुंडों ने विधायक कार्यालय के समने हवा में गोलियाँ चलाई. शायद बीजेपी के नेता चुनाव के समय इसी सुरक्षा, अच्छे दिन, विकास, न्यू इंडिया और राम राज की बात कर रहे थे!!

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here