स्वागत के लिए नहीं खड़ा हुआ तो BJP राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के भाई ने बिहार में एक दुकानदार को बुरी तरह पीटा

0
359
cctv-brother-of-bjp-vice-president-renu-devi-beaten-a-shopkeeper-for-not-welcoming-him

कुछ लोगों को अपनी ताक़त और ताक़तवर संगठन की ज़बरदस्त सनक होती है, इसलिए, चाहे वो सम्मान के लायक हो या नहीं हो लेकिन तब भी सम्मान की तीव्र इक्षा होती है; और ऐसे लोग सम्मान नहीं मिलने पर बेवजह अपनी धाक ज़माने का प्रयास करता है. भारतीय जनता पार्टी के दोबारा सरकार में आने के बाद से देश भर से कई ऐसी घटनाएँ सामने आयी हैं जो देश की भविष्य के लिए दुखद है. ऐसी घटनवाओं में सत्तारूढ़ पार्टी के लोगों का सीधे सम्मिलित होना कहीं ना कहीं एक तानाशाही सोच को दिखता है जो पार्टी के सत्ता में आने के बाद बढ़ रहा है. अगर सही समय पर पार्टी के लोग उचित क़दम नहीं उठाते तो पता नहीं आने वाले दिनों में कौन आम आदमी पार्टी कहाँ पिट जाएगा चाहे वो कोई महिला हीं क्यों ना हो.

पिछले दिनों गुजरात में बीजेपी विधायक ने जिस तरह से खुलेआम महिला पर लात-घूंसे बरसाए वो सबने देखा और क्या कार्रवाई हुई ये भी सबने देखा. अब ऐसी ही एक घटना बिहार के पश्चिमी चंपाारण जिला मुख्यालय बेतिया से प्रकाश में आयी है जहाँ भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रेणु देवी के भाई पिनू ने बेतिया में एक दुकानदार को उसी के दुकान में घुसकर बुरी तरह पीट दिया, लेकिन भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के भाई के सनक को इतना काफ़ी नहीं लगा, इसलिए उसने दुकानदार को पावर हाउस स्थित अपने आवास पर ले जाकर फिर से पिटाई की.

यह मारपीट बहुत मामूली बात पर की गई. इस घटना के दृश्य सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गए. सीसीटीवी फुटेज में पिनू दुकानदार को पीटते हुए दिखाई दे रहे हैं.

भाजपा उपाध्यक्ष के भाई पिनू के दुकान में आने पर दुकान में अपने कुर्सी पर बैठा दुकानदार स्वागत के लिए नहीं खड़ा हुआ, इसपर पिनु ने दवा की दुकान में बैठे दुकानदार को अपनी कुर्सी से उठने को कहा. उसके नहीं उठने पर उसे वहीं मारा और फिर पकड़कर ले गया. उसके बाद उसे पावर हाउस में ले जाकर बुरी तरह पीटा. दुकानदार गंभीर रूप से घायल हो गया है.

मीडिया में इस मामले का सीसीटीवी फुटेज चलने के बाद अब स्थानीय पुलिस भाजपा उपाध्यक्ष रेणु देवी के भाई को गिरफ़्तार करने के लिए छापे मारी कर रही हैं लेकिन स्वभविक तौर पर गिरफ़्तारी इतनी आसान नहीं होगी क्योंकि पिनू का जिस पार्टी के लोग से ताल्लुक़ है वो राज्य और देश में सत्ता सम्हाल रहे हैं. पश्चिम चंपाारण पुलिस ने बताया कि आरोपी की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है और जिस फॉच्यूर्नर गाड़ी से दवा दुकानदार को उठाया गया था, उसे जब्त कर लिया गया है.

इधर, BJP राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, रेणु देवी ने सफाई दी, “मुझे भाई से कोई लेना-देना नहीं है और पुलिस इस मामले में करवाई करने के लिए स्वतंत्र है. जो जैसा करेगा, वैसा भरेगा.”

इस प्रकार की घटनाओं के बाद राज्य की नीतीश कुमार और क़ानून वेवस्था की विवशता का भी पता चलता है. हाल में जिस प्रकार से गिरिराज ने नीतीश कुमार पर तंज किए उससे ये अंदाज़ा लगाना मुश्किल नहीं है की NDA गठबंधन में नीतीश कुमार की अब वो हैसियत नहीं रही जो पहले थी. महगठबँधन से अलग होने के बाद बिहार में जिस तरह से आपराधिक गतिविधियाँ बढ़ी है उससे फिर से बिहार में लगभग वही माहौल हो गया है जो नीतीश के पहली बार सरकार में आने के समय था, लूट पाट, हत्या, गौ रक्षा के नामपर हत्या, धर्म के नाम पर हत्या अब बिहार में आम बात हो गयी है. राज्य में अब सुशासन का नहीं जंगल राज का माहौल बना है और सुशासन बाबू कहलाने वाले नीतीश कुमार चुपचाप देख रहे हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here